INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

दलितों के बुद्ध, आंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस आज

DESK : भारत के महान सुधारवादी नेता और भारत के संविधान के मुख्य वास्तुकार डॉ भीमराव रामजी अम्बेडकर की आज पुण्यतितिथि है जिसे देशभर में इनके परिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। 14 अप्रैल, 1891 को मध्य प्रदेश के महू में जन्मे, अम्बेडकर को अक्सर भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार या एक दलित नेता के रूप में जाना जाता है।

1930 की दशक के शुरुआत में भारत की संवैधानिक स्थिति पर गोलमेज सम्मेलनों में भाग लेने के लिए अंग्रेजों द्वारा नियुक्त दो ‘दलित’ प्रतिनिधियों में से एक थे। उन्होंने स्वतंत्रता की ओर ले जाने वाली परिचर्चाओं में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। डॉ अम्बेडकर ने अपने काम के माध्यम से न केवल अछूतों बल्कि समाज के अन्य दलित वर्गों का भी उत्थान किया। इसके अलावा, डॉ अम्बेडकर ने भारत में सामाजिक-आर्थिक असमानताओं को कम करने के लिए भी काम किया।

अपने कई अनुयायियों के साथ, डॉ बीआर अंबेडकर ने 14 अक्टूबर, 1956 को बौद्ध धर्म ग्रहण किया। उनके प्रशंसकों और अनुयायियों का मानना ​​​​है कि उनका प्रभाव बुद्ध के समान महान था, यही कारण है कि अम्बेडकर की पुण्यतिथि को महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जाता है।

बाबा साहब के परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर भारतीय राजनीती के कई दिग्गजों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोशल मीडिया साइट कू पर अपनी एक पोस्ट में लिखा,”महान विधिवेत्ता, सामाजिक न्याय के प्रबल पक्षधर, भारत के सर्वसमावेशी संविधान के शिल्पकार, ’भारत रत्न’ बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर जी के महापरिनिर्वाण दिवस पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि। राष्ट्र निर्माण एवं समतामूलक समाज की स्थापना हेतु आपके कार्य सभी के लिए महान प्रेरणा हैं।

No comments

Welome INA NEWS, Whattsup : 9012206374