INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

कोरोना के दौर में गर्भवती महिलाओं को है ज्यादा खतरा, बचने के लिए रखें इन बातों का खास ध्यान

INA NEWS DESK

कोविड के दौर में बड़े खतरे में गर्भवती महिलाएं भी हैं। गर्भ में पल रहा बच्चा भी है। हालांकि, अब तक कि जो फाइंडिंग है उससे इसका सिर्फ संकते मिलता है कि कोरोना वायरस ट्रांसफर बल्ड टू ब्लड नहीं हो रहा है। मां के संक्रमित होने से बच्चे के अंदर एंटी बॉडी तैयार हो जाती है जो उसकी गर्भ से लेकर बाहर तक सुरक्षा करती है। 


डॉक्टर्स का कहना है कि कोविड संक्रमण फैलने के बाद से अब तक हुई डिलीवरी से संकेत ऐसे ही मिलते हैं। सिजेरियन डिलीवरी के बाद भी बच्चों में संक्रमण न होना बताता है कि बच्चों की इम्युनिटी बेहद स्ट्रॉन्ग होती है।

डिलीवरी के समय अस्पताल में सावधानी

1. कोरोना संक्रमित महिला की सर्जरी के समय गायनोकोलॉजिस्ट पीडियाट्रिशियन, और एनेस्थेसिया देने वाले के अलावा एक नर्स ऑपरेशन हाल में मौजूद होती है।

2. जन्म के तत्काल बाद पूरी सफाई करके बच्चे को पीडियाट्रीशियन के हवाले कर दिया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं