INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

गर्भावस्था के दौरान आपको भी होती है बर्फ खाने की इच्छा ?

गर्भावस्था के दौरान एक स्त्री के शरीर में कई तरह के परिवर्तन आते हैं ख़ास तौर पर उसके खाने पीने की आदत में विशेष बदलाव आता है। किसी को खट्टा पसंद आता है तो किसी को मीठा। 

इसके आलावा भी कई ऐसी चीज़ें हैं जो ऐसे समय में खाने की इच्छा होती है। इन्हीं में से एक है बर्फ। जी हाँ कुछ औरतों को गर्भावस्था के दौरान बर्फ का सेवन करना बहुत पसंद आता है। क्या आप उन गर्भवती स्त्रियों में से एक है और आपको भी बर्फ खाने की लालसा होती है। 



अगर हाँ तो घबराइए नहीं क्योंकि आप अकेली ऐसी स्त्री नहीं है आपकी तरह कई ऐसी अन्य महिलाएं भी हैं जिन्हें गर्भावस्था में ऐसी चीज़ें खाने की लालसा होती है। हालांकि यह लालसा सामान्य नहीं है फिर भी गर्भावस्था में अकसर ऐसा होता है। तो आइए जानते हैं आखिर क्यों होती है गर्भावस्था के दौरान यह अजीब लालसा।

गर्भावस्था में बर्फ खाने की इच्छा वैसे तो इसके पीछे कई कारण हो सकते है उनमें से कुछ इस प्रकार है। मॉर्निंग सिकनेस गर्भावस्था में मॉर्निंग सिकनेस होना एक आम बात होती है। भले ही इसे मॉर्निंग सिकनेस कहते हैं लेकिन यह कभी भी हो सकता है दिन में या दिन भर में कभी भी। इसके लक्षण होते हैं जी मिचलाना, उल्टी और चक्कर आना। गर्भावस्था में इससे गुज़रना एक स्त्री के लिए बेहद कठिन होता है ऐसे में बर्फ के सेवन से स्त्री को काफी हद तक राहत मिलती है। 

बर्फ में न तो स्वाद होता और न ही सुगंध यह भी एक प्रमुख कारण है कि स्त्री को ऐसे में यह पसंद आता है। सीने में जलन (हार्टबर्न) प्रेगनेंसी के दौरान अकसर महिलाओं को सीने में जलन (हार्टबर्न) और एसिडिटी की शिकायत होती है। यह काफी आम है और घबराने वाली बात नहीं होती है फिर भी इसे झेल पाना बहुत ही मुश्किल होता है। 

गर्भावस्था के दौरान, अपरा (प्लेसेंटा) प्रोजेस्टीरोन हॉर्मोन का उत्पादन करती है, जो स्त्री के गर्भाशय की कोमल मांसपेशियों को राहत पहुंचाता है। यह हॉर्मोन उस वॉल्व को भी शिथिल बनाता है, जो कि भोजन-नलिका को पेट से अलग करता है, ताकि गैस्ट्रिक अम्ल फिर से रिसकर नलिका में पहुंच जाए। इसकी वजह से ही सीने में जलन महसूस होती है। प्रोजेस्टीरोन, पेट के लहर जैसे संकुचनों को भी धीमा कर देता है, जिससे पाचन धीमा हो जाता है और एसिडिटी होने लगती है। ऐसे में बर्फ खाने से आपके पेट में ठंडक बनी रहती है और सीने में होने वाली जलन से भी राहत मिलती है।





कोई टिप्पणी नहीं