INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

चुनावी मौसम में मंदिर के सहारे भाजपा

लखनऊ - लोकसभा के चुनावी मौसम में विश्व हिंदू परिषद ने मंदिर के सहारे हिंदुत्व को धार देने का तानाबाना बुनना शुरू कर दिया है। दिल्ली में 5 अक्टूबर को संतों की उच्चाधिकार समिति में लिए गए निर्णयों को जमीन पर उतारने और गांव-गांव हिंदुत्व की अलख जगाने के लिए लखनऊ में हुई बैठक में पूरे रोडमैप को अंतिम रूप दिया गया।


इसमें एक तरफ गांव-गांव मंदिर मामले पर अब तक की पूरी बात लोगों को बताने और सरोकारों पर समझाने तो प्रत्येक संसदीय क्षेत्र का माहौल भगवामय बनाने को योजना शामिल की गई है। 

रोडमैप पर अगले कुछ दिनों में काम शुरू हो जाएगा। इसमें राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और राज्यपाल से मिलकर तथा पत्र भेजकर रामभक्तों की भावनाओं से अवगत कराकर कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने की मांग होगी। साथ ही  प्रत्येक संसदीय क्षेत्र में जनजागरण के कार्यक्रम भी चलेंगे।

विहिप के लोग संत-महात्माओं को लेकर प्रदेश भर का दौरा करेंगे। गांव-गांव मठ-मंदिरों पर छोटी-छोटी बैठकें कर लोगों को बताएंगे कि मंदिर मुद्दे पर अब क्या स्थिति है। यह भी समझाएंगे कि राज्यसभा में भाजपा का बहुमत न होने के कारण कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने राह फिलहाल मुश्किल है। पर, हिंदुत्व के मद्दे पर सरकार का एजेंडा एकदम स्पष्ट है।

इसके लिए विहिप के कार्यकर्ता और संत-महात्मा मोदी और योगी सरकार की तरफ  से हिंदुओं के सांस्कृतिक और धार्मिक सरोकारों पर अब तक किए गए कामों की भी लोगों को जानकारी देंगे।

विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता शरद शर्मा कहते हैं कि दशहरा बाद अभियान पर काम शरू हो जाएगा। इसके लिए विहिप की तरफ से धर्माचार्य संपर्क प्रमुख अशोक तिवारी और केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल के संयोजक जीवेश्वर मिश्र संतों और धर्माचार्यों से संपर्क कर रहे हैं।

No comments