INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

लॉकडाउन मे गरीबों को राशन व भोजन मुहैया करा रहे जिला पंचायत अध्यक्ष संजय सिंह

 रिपोर्ट - मोहम्मद ज़ाकिर - बरेली

बरेली - कोरोना के कारण पूरा देश अपने घरों मे कैद है।सरकार ने त्रसंपूर्ण देश मे लॉकडाउन लगा रखा है।लोगों को घरों मे ही रहने के साथ एक दूसरे से सोशल डिस्टेंसिंग की अपील भी की जा रही है।साफ -सुथराई का भी विशेष ध्यान रखने का आग्रह किया जा रहा है।हालांकि जैसे जैसे लॉकडाउन की समय सीमा मे इज़ाफ़ा हो रहा है ,वैसे वैसे समाज के निचले तबके तथा दिहाड़ी मजदूरों की समस्याओं मे बढोतरी हो रही है।

काम-धंधा ,मेहनत-मजदूरी बंद होने के कारण रोज़ कमाने खाने बालों के समक्ष रोजी-,रोटी के लाले पड़ गये हैं।हालांकि इस संकट से निपटने को सरकार व प्रशासन भी गरीबो व मजदूरों के जीवनयापन के लिए राशन से लेकर भोजन तक मुहैया करा रहा है।इसके अतिरिक्त स्वंयसेवी संस्थाऐ और समाजसेवी भी निचले तबके के खाने-पीने की व्यवस्था के अंतर्गत पके भोजन से लेकर आटा चावल ,सब्जी तेल सहित अन्य खाघ सामग्री तक उनको पहुंचा रहे हैं।

बरेली के युवा जिला पंचायत अध्यक्ष संजय सिंह भी विपदा की इस कठिन अग्निपरीक्षा मे गरीबों-असहायों के  बरेली के ग्रामीण क्षेत्रों मे लिए राशन और भोजन स्वयं घर घर जाकर बांट रहे हैं।लॉकडाउन के कारण काम धंधा बंद होने से संकट का सामना कर रहे निचले तबके पर संजय सिंह खास इनायत-ए-करम फरमाऐ हुये हैं।संजय सिंह खास तौर पर उन क्षेत्रों मे मदद पहुचा रहे हैं जो प्रशासन तथा अन्य समाजसेवी की मदद से वंचित हैं।बरेली के नवाबगंज, फरीदपुर, भुता आलमपुर जाफराबाद आदि ब्लाकों की ग्राम पंचायतों तथा मजरो मे रहने बाले निर्धन ,मजदूर व रोज़ कमाने बाले उनकी इस मदद को पा रहे हैं।

संजय सिंह ने मदद के रुप मे खाने की एक किट बनाकर स्वयं उनके घर घर जाकर उन्हें बांट रहे हैं।उनके द्वारा तैयार खाने की किट मे आटा, आलू,तेल,सब्जी आदि खाघ पदार्थ होते हैं जिससे गरीबों को भूखा न रहना पड़े।संजय सिंह का कहना है कि आज केवल हमारा देश ही नहीं बल्कि लगभग पूरा विश्व ही इस महामारी से त्राहिमाम कर रहा है।ऐसे मे इसकी सबसे अधिक मार निचले तबके के मजदूरों व कामगारों, रोज कमाने-खाने बालो पर पड़ी है।कामधंधे व रोज़गार के साधन ठप पड़ने से गरीबों को भूखा न रहना पड़े, बस इसी मकसद से इन मदद के तलबगार लोगों को हम ईश्वर की कृपा से उनकी देखभाल कर रहे हैं।

उनका कहना है कि आज हमे  कुदरत ने किसी लायक बनाया है तो यह हमारा पहला फर्ज़ बनता है कि हमारे आसपास इस मुसीबत के कारण रोज़गार से दूर हुए लोगों की मदद की जाये।खास बात यह है कि जिला पंचायत अध्यक्ष यह मदद व्यक्तिगत स्तर पर कर रहे हैं तथा इससे जिला पंचायत या किसी और सरकारी वित्तीय मदद से कोई मतलब नहीं है।इसके अलावा वो जिला पंचायत के वार्डों मे भी साफ-सफाई और सेनिटाइजेशन का कार्य भी करा रहे हैं।

INA NEWS DESK

कोई टिप्पणी नहीं