INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

दिल्ली की 35 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है नीतीश की पार्टी

नई दिल्ली -  Delhi Assembly Election 2020 : दिल्ली की त्रिकोणीय लड़ाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (National Democratic Alliance) सहयोगी जनता दल यूनाइटेड (Janta Dal United) भी मैदान में उतरने की तैयारी में है।

इस बाबत बिहार की राजग सरकार में मंत्री और दिल्ली के प्रभारी संजय झा ने बताया कि पार्टी लगभग आधी सीटों पर दमखम के साथ अपने उम्मीदवार उतारेगी। जाहिर तौर पर जदयू की नजर विशेष रूप से उन क्षेत्रों पर होगी, जहां पूर्वांचल के लोगों की खासी संख्या है। इसके अलावा शुद्ध पेयजल के मुद्दे के साथ पूरी दिल्ली में प्रचार होगा।

दरअसल दिल्ली में पेयजल की गुणवत्ता को लेकर भाजपा और सत्ताधारी आम आदमी पार्टी के बीच ठनी है। संजय झा का कहना है कि बिहार में एक मानक तय कर दिया है। बिहार में 2020 के अंत तक हर घर में साफ पेयजल पाइप से पहुंचाने का काम पूरा हो जाएगा। जदयू दिल्ली में भी यह कर दिखाएगा।

यहां पर बता दें कि बिहार में संयुक्त रूप से सरकार चला रही भारतीय जनता पार्टी और जनता दल युनाइड के बीच सबकुछ ठीकठाक नहीं चल रहा है। राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर दोनों दलों को परस्पर विरोध बयान सामने आ चुकी है। 

वहीं, झारखंड चुनाव 2019 में भी जनता दल यू ने भारतीय जनता पार्टी से अलग होकर चुनाव लड़ा था। ऐसे में जहां तक दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में जनता दल यू के प्रत्य़ाशी उतारने का सवाल है तो इससे भाजपा के साथ जदयू दोनों को ही नुकसान होगा।  जाहिर है इससे भाजपा और जदयू के बीच पूर्वांचल और बिहार के लोगों के बीच मतों का बंटवारा होगा। 

बता दें कि दिल्ली में बिहार और यूपी के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो दिल्ली की तकरबीन 20-22 सीटों पर पूर्वांचल और बिहार के वोटर्स का प्रभाव है। यही वजह है कि AAP, भाजपा और कांग्रेस  तीनों ही प्रमुख दल पूर्वांचल के मतदाताओं पर नजर रख रहे हैं।

INA NEWS DESK

कोई टिप्पणी नहीं