INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

नकल कराने वालों पर लगेगी रासुका, जाएंगे जेल : डा. दिनेश शर्मा

गोरखपुर - प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि अब नकल कराने वालों पर रासुका लगेगी वे जेल जाएंगे। नकलविहीन परीक्षा कराना हमारा संकल्प है। नकल से बच्चों का भविष्य बर्बाद होता है, जिसे हम किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। हमने हर जनपद से खुफिया रिपोर्ट मंगाई है। नकल रोकने के लिए प्रबंधकों का आह्वान करने के साथ ही चेतावनी दी कि नकल कराने वाले जेल की सलाखों के पीछे होंगे। राजकीय इंटर कालेज देवरिया के संग्रहालय के जीणरेंद्धार के लिए अधिकारियों को निर्देश देते हुए जनपद के देसही देवरिया में राजकीय इंटर कालेज खोलने के लिए मुख्यमंत्री को प्रस्ताव भेजने बात कही। 

शर्मा देवरिया जनपद के भाटपाररानी क्षेत्र के बुद्ध स्नातकोत्तर महाविद्यालय रतसिया कोठी के दीक्षात समारोह व उ.प्र.माध्यमिक शिक्षक संघठकुराई गुट के वार्षिक अधिवेशन को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा विभाग के जो मुकदमें बढ़ रहे हैं उसके निस्तारण के लिए अपीलीय प्राधिकरण का गठन किया जाएगा, ताकि लोगों को न्यायालय न जाना पड़े। हम ग्यारहवीं-बारहवीं के छात्रों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए एक बैठक करने वाले हैं, जिसमें आइटी विभाग के अपर मुख्य सचिव व माध्यमिक के मुख्य सचिव रहेंगे। राजकीय इंटर कालेजों में कौशल विकास केंद्र खोले जाएंगे,ताकि बच्चों को स्वरोजगार मिल सके। उन्हें प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। 

वित्तविहीन शिक्षकों के लिए नियमावली बनाने का कार्य शुरू हो गया है। इसके लिए कमेटी गठित की गई है। अधिकारियों की सेवानिवृत्ति के कारण इसमें समय लग गया है। जल्द ही इसे आगे बढ़ाएंगे। यूपी बोर्ड की परीक्षा सोलह दिनों में कराएंगे। पहले महीनों लग जाता था। उन्होंने शिक्षकों से भी नकलविहीन परीक्षा कराने में सहयोग की अपील की। शिक्षकों के चयन पर उन्होंने कहा कि अब पूरी पारदर्शिता के साथ शिक्षकों का चयन किया जाएगा, ताकि स्कूलों में योग्य शिक्षकों की नियुक्ति हो सके। कहा कि हम कोशिश करेंगे कोई भी पत्रावली लंबित न हो, उसका जल्द से निस्तारण कराएंगे। सिटीजन चार्टर लागू कराएंगे, ताकि सुचारू रूप से कार्य संपन्न हो सके। अभी तक नकल के लिए छह तरीके अपनाएं जाते थे। एक तो दूसरे के स्थान पर दूसरा परीक्षा देता था। ऐसा करते पकड़े जाने वाले जेल जाएंगे। 

उन्होंने कहा कि कापिया बदलने का खेल भी चलता था। वीआइपी कमरे में मंत्री, अधिकारी व विधायक के बच्चों को इमला बोलकर नकल कराई जाती थी। यही नहीं लिफाफा खोलकर पर्चे आउट कराए जाते थे। अब ऐसा नहीं होगा। इस पर सख्ती से रोक लगाई गई है। ऐसे कई लोगों को जेल भी भेजा जा चुका है। शिक्षकों के एकल स्थानातरण की माग को पूरा करने का आश्वासन देते हुए कहा कि इस वर्ष सरकारी स्कूलों में 18 फीसद छात्रों की संख्या बढ़ी है। हमने एक साल के अंदर एनसीआरटी का पाठ्यक्रम लागू किया है। अब यूपी बोर्ड के छात्रों को भी अधिक मिल रहे हैं। यदि कोई किताबों का अधिक मूल्य लेता है तो आप एफआइआर दर्ज कराएं, हम कार्रवाई करेंगे।

No comments