INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

सामाजिक कुरीतियों का खात्मा करने लें सभी संकल्प

जालौन - अखिल भारतीय दोहरे (दोहरे) समाज महासंघ का तृतीय राष्ट्रीय अधिवेशन जालौन  में आयोजित किया गया।  कार्यक्रम  के मुख्य अतिथि  इटावा झेत्र के सांसद अशोक दोहरे व विशिष्ट अतिथि चैन सुख भारती और कार्यक्रम के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहर सिंह  ने  धर्मशाला बनाने पर जोर दिया और  राजनीति से ऊपर उठकर आपसी सहयोग की अपील की।

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सांसद से ऊमरी जिला भिंड थाने में शहीद उमेश बाबू दोहरे को मप्र सरकार के 1 करोड़ देने के वादे को पूरा करने के लिए सांसद महोदय के द्वारा प्रधानमंत्री जी से हस्तक्षेप का भी अनुरोध किया। गौतम बुद्ध के पंचशील सिद्धांतों के बारे में बताते हुए सांसद अशोक दोहरे ने सभी से नशे और अन्य सामाजिक बुराइयों को जड़ से खत्म करने का आव्हान किया एवं सामाजिक सशक्तिकरण हेतु सभी को संगठन से जुड़ने का मूल मंत्र दिया। बाबा साहव की बात को भी दोहराया, साथ ही अपने को वह समाज के लिए हमेशा साथ खड़े रहने की बात कही समाज पहले  वक्ताओं में से प्रमुख रूप से भोपाल से आये एचआर प्रभाकर ने डोहर समाज की जनगणना भारत मे कब कहाँ कितनी रहएमएम और जालौन के वयोवृद्ध नेता चैनसुख भारतीय ने समाज की कुरीतियों को दूर करने की बात की ।

समाज सुधारक एवं पूर्व विधायक बाबूजी चैन गरीबदास सिंह के समाज सुधार के कार्यों को दोहराया एवं शराब या अन्य नशे से मुक्त रहने की बात कही  जिनके पालन से समाज सुधार किया जा सकता है। ग्वालियर से आये डॉ. गोविंद सिंह ने दोहरे समाज पर प्रकाश डालकर कोंच के धांधू डोहर और मकरंदपुरा, बुधनौटा जो कि दोहरे रियासत रहीं उनके बारे में बताया तथा 362 दोहरे घर (कंजोसा से कदौरा तक) के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में ग्वालियर से सपरिवार आये पदाधिकारी वक्ता केबी दोहरे ने हर क्षेत्र में समाज को मजबूत बनाने और आपसी सहयोग की अपील की।

मंच संचालन कर रहे हेमेन्द्र सिंह व सांसद विधायक एवं विदेशों में डोहर समाज का नाम रोशन कर रहे लोगों की जानकारी दी। साथ ही लोगों से हाथ उठाकर यह अहसास कराया कि लोग बाबा साहब को तो मानते है, पर बाबा साहब की नहीं मानते।
कार्यक्रम में महिलाओं के प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित जालौन क्षेत्र की कांग्रेस युवा मोर्चा अध्यक्ष कीर्तिका चैधरी ने बड़े ही जोश और मजबूती से अपना पक्ष रखते हुए महिलाओं की सशक्तिकरण की बात करते हुए बताया कि अभी तक महिलाएं अपने अधिकार को पहचाने

No comments