INA NEWS

ads header

ताज़ा खबर

अश्लील फोटो वायरल करने पर चार के खिलाफ मुकदमा

इटावा -  इटावा की एक महिला सपा नेता के अश्लील फोटो, वीडियो वायरल करने में हाथरस के युवक का नाम सामने आया है। उन्होंने आरोपित युवक समेत चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। आरोपित की तलाश में इटावा के फ्रेंड्स कॉलोनी थाना पुलिस ने बुधवार को हाथरस में दबिश दी। आरोपित यहां एक व्यापारी की कार का चालक है। युवक के न मिलने पर पुलिस ने व्यापारी और आरोपित के दोस्तों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। शहर के व्यापारी को हिरासत में लेने पर बुधवार को कोतवाली सदर में जमकर हंगामा हुआ।
18 अगस्त को महिला सपा नेता ने छेड़छाड़ व आइटी एक्ट में हाथरस जंक्शन के गांव लाखनू निवासी अरुण शर्मा व परवेज चौधरी, विक्रांत, राहुल मिश्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। आरोपित परवेज चौधरी, विक्रांत, राहुल मिश्रा अलग-अलग शहरों के रहने वाले हैं। महिला नेता आरोप है कि कुछ दिन पहले हाथरस शहर के वाट््सएप ग्रुप पर उनके अश्लील फोटो व वीडियो डाले गए। अरुण इस ग्रुप का एडमिन है तथा उसी ने पोस्ट डाली थी। इसके बाद पोस्ट वायरल हुई।
रात इटावा की फ्रेंड्स कॉलोनी थाने के एसआई आरआर गौतम व अनूप द्विवेदी ने हाथरस में दबिश देकर रंग व्यापारी से पूछताछ की। अरुण व्यापारी के यहां कार चालक है। इसके बाद देर रात लाखनू में दबिश दी, लेकिन अरुण नहीं मिला। इस पर उसके पिता को हिरासत में ले लिया। इसके बाद ग्र्रुप में शामिल नगला इमलिया गांव से अरुण के दोस्त को हिरासत में लिया गया, वह भी ग्रुप में शामिल है। बुधवार की दोपहर इटावा पुलिस कोतवाली सदर पुलिस को साथ लेकर नजिहाई बाजार पहुंची।
यहां से रंग कारोबारी को पूछताछ के लिए कोतवाली लाया गया। रंग कारोबारी को हिरासत में लेते ही तमाम व्यापारी व नेता कोतवाली पहुंचे, जहां नोकझोंक भी हुई। काफी देर चली गहमा-गहमी के बाद इटावा पुलिस ने पूछताछ के बाद व्यापारी और अरुण के दोस्त को छोड़ दिया। इटावा पुलिस देर रात पिता की मदद से अरुण की तलाश में जुटी रही। आरोपितों को पकडऩे के लिए कई सर्विलांस टीम काम कर रही हैं। उधर, सपा नेत्री के वीडियो व फोटो वायरल होने का मामला शासन तक पहुंच चुका है।
पीडि़ता पूर्ववर्ती सरकार में प्रभावशाली नेता रही हैं। इटावा क्षेत्र के सपा नेता भी प्रकरण को लेकर गंभीर हैं तथा सीधे प्रदेश के शीर्ष अधिकारियों से बात कर चुके हैं। इटावा पुलिस की दबिश से पहले तक शहर में अधिकतर युवाओं के मोबाइल में वायरल फोटो व वीडियो थे। दबिश पड़ते ही गिरफ्तारी के डर से लोगों ने इन्हें डिलीट करना शुरू कर दिया।
उधर, दबिश में आए दारोगा ने बताया कि इटावा में यह मामला गरमा चुका है। कई दिनों से यह फोटो-वीडियो वायरल हैं। सपा महिला नेता व उनके करीबियों का कहना है कि यह फोटो उनके नहीं हैं। फेसबुक आइडी के जरिए उनका चेहरा क्रॉप कर फोटो एडिट किया गया है। राजनीतिक षड्यंत्र के तहत उनको बदनाम किया जा रहा है। आरोपितों में हाथरस के अलावा दो मैनपुरी व एक देवरिया का बताया जा रहा है। 

No comments